खुश रहने के 8+ उपाय | Best Happy tips for life in Hindi 2021

Happy tips for life: आप इस लेख को पढ़ रहे हैं, तो इसका मतलब है कि कहीं न कहीं आप भी खुशी की तलाश में हैं।

वैसे, खुश रहना इतना मुश्किल नहीं है कि इसे पाया नहीं जा सकता है, बस हमें अपने नजरिए को बदलने और खुशी के मौके को पहचानने और इसे अपनाने की जरूरत है।

इस लेख में, हमने खुश रहने के 8+ तरीके बताये हैं। इन खुश तरीकों और Happy tips for life मदद से आप हमेशा आसानी से खुश रह सकते हैं।

खुश रहने के 8+ उपाय Best Happy tips for life in Hindi

दोस्तों, हम सभी को खुश रहने का अधिकार है, और हम सभी खुश रहना चाहते हैं, लेकिन इसका कारण क्या है जिसके कारण हम चाह कर भी खुश नहीं रह पाते हैं और हम बहुत जल्द उदास हो जाते हैं।

अगर हम ध्यान से देखें, तो इसका एक ही कारण हो सकता है, वह यह है कि हम खुद को दूसरों में खुश होने का कारण पाते हैं, जबकि वह कारण हमारे भीतर है।

जब हम दूसरों में खुश होने का कारण पाते हैं, तो हम वहां से निराश महसूस करते हैं, जिसके कारण हम खुश नहीं हो पाते हैं।

आज हम आपसे कुछ Happy tips for life के बारे में बात करेंगे, जिससे हम खुद खुश रह सकते हैं, और अपने जीवन को बहुत ही रोचक और मजेदार बना पाएंगे।

1. सुबह जल्दी उठना (Get up early in the morning)

जब हम सूर्योदय (Sunrise) से पहले उठते हैं, तो हमें एक अलग अनुभव (experience) होता है और ऐसा लगता है जैसे प्रकृति एक नए दिन के लिए हमारा स्वागत कर रही है।

सूर्योदय से कुछ समय पहले, आकाश का दृश्य अद्भुत है और ऐसा लगता है जैसे हमारे भीतर एक नई ऊर्जा का संचार हो रहा है। यह मेरा व्यक्तिगत अनुभव है कि उस दिन हम अन्य दिनों की तुलना में अधिक खुश होते हैं जब हम सूर्योदय से पहले उठते हैं।

सूर्योदय से पहले उठने के कई लाभ हैं। जल्दी जागने के लाभ, शुरुआती व्यायाम, योग और व्यायाम के लिए अच्छे पाए जाते हैं। रचनात्मकता (रचनात्मकता) बढ़ती है। एक सकारात्मक और अच्छी शुरुआत दिन के लिए लक्ष्य निर्धारित करना है।

आयुर्वेद क अनुसार सूर्योदय से पहले बहने वाले वातावरण के समान है, जिसके माध्यम से हमारे शरीर में एक नई ऊर्जा का संचार होता है। प्रकृति के अद्भुत दर्शक का अनुभव आपको पूरे दिन के काम के लिए मानसिक रूप से तैयार करना चाहिए।

2. ध्यान, योग और व्यायाम (Meditation, yoga and exercise)

ध्यान और योग से, हम मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहते हैं। शारीरिक रोगों के साथ-साथ ध्यान और योग करने से हमारे मानसिक विकार भी दूर हो जाते हैं और हम मानसिक रूप से सक्षम हो जाते हैं।

यह एक सिद्ध तथ्य है कि ध्यान और योग तनाव को दूर कर सकते हैं। जो व्यक्ति नियमित रूप से योग करता है, उसकी आंतरिक शक्तियाँ जागृत हो जाती हैं जिसके कारण वह सभी प्रकार की परिस्थितियों का सामना कर रहा है।

3. वर्तमान में जिएँ (Live in Present):

वैज्ञानिकों के अनुसार, अधिकांश लोगों का 70% से 90% समय, भविष्य और व्यर्थ की बातों में सोच में चला गया है। यदि हम अपनी समस्याओं और तनाव के कारणों विश्लेषण करते हैं, तो हमारा 90% तनाव अतीत या भविष्य में होने वाला है।

इसका मतलब है कि हमें वर्तमान में कोई समस्या नहीं है और हमारे तनाव का कारण या तो अतीत की घटना है या भविष्य का डर है।

यदि तनाव का कारण अतीत है, तो अब कुछ भी नहीं किया जा सकता है, इसलिए हम अपने स्वयं के दिमाग में व्यर्थ के तनाव के बारे में छोड़ रहे हैं। और अगर तनाव के कारण भविष्य का कोई डर है, तो उसका भविष्य खुद वर्तमान निर्धारित करेगा।

इसलिए यदि हम वर्तमान में रहते हैं, तो भविष्य अच्छा होगा और अगर हम उस डर से डरते रहेंगे जो अभी तक नहीं हुआ है पैदा हुआ है, तो हम अपने वर्तमान को खराब करेंगे और हमारा वर्तमान हमारे भविष्य को समाप्त कर देगा।

इसलिए हमें वर्तमान में बने रहना चाहिए और इसे सर्वश्रेष्ठ बनाना चाहिए क्योंकि न तो अतीत और न ही भविष्य हमारे पास है “यदि आप खुश रहना चाहते हैं और सफल (Successful) होना चाहते हैं, तो आपको यह सोचना बंद कर देना चाहिए कि हमारा क्या नियंत्रण (Control) नहीं है”।

4. आपको जो अच्छा लगे वो करें (Do what you like)

दिन में कम से कम एक घंटा कुछ ऐसा करें जो आपको पसंद हो, जैसे कि खेलना, संगीत सुनना या लिखना। ऐसे कार्य आपको एक नई ऊर्जा प्रदान करते हैं और आपको रिचार्ज करते हैं। यदि संभव हो, तो हमें अपना करियर उसी दिशा में मोड़ना चाहिए।

हमें अपना करियर उस क्षेत्र में बनाना चाहिए जिसमें हम रुचि रखते हैं। यदि हम ऐसे क्षेत्र में काम कर रहे हैं जिसमें हमें कोई दिलचस्पी नहीं है, तो हमारे पास दो विकल्प हैं:

या तो अपने कार्यक्षेत्र को बदलें, उस क्षेत्र में दो और करियर दें जिसमें हम रुचि रखते हैं और यदि संभव हो तो वर्तमान कार्य को अपनी रुचि के अनुकूल बनाएं।

यदि हम दोनों विकल्पों में से कोई भी विकल्प नहीं लेते हैं और ऐसे काम करते रहते हैं जो हमें पसंद नहीं आते हैं, तो हम अपना 100% समय देने और अधिकांश समय बर्बाद करने में सक्षम नहीं होते हैं।

5. अपनी गलतियों की जिम्मेदारी ले (Take responsibility for your mistakes)

यदि आप अपने जीवन में हमेशा खुश रहना चाहते हैं, तो सबसे पहले अपनी गलतियों की जिम्मेदारी सीखें और दूसरों की कमियों को निकालना बंद करें। गलती सुधारने पर आपको एक खुशी महसूस होती है।

6. अपेक्षा कम करें (Expect less) (Happy tips for life)

अक्सर हम दूसरों से बहुत ज्यादा उम्मीद करने लगते हैं, और जब वे हमारी अपेक्षाओं के विपरीत व्यवहार करते हैं, तो हमें दुख होता है। इसलिए उम्मीदें कम करें।

7. शिकायत मत करो (do not complain)

हर चीज के बारे में शिकायत करना एक अच्छा लक्षण नहीं माना जाता है, जो लोग ऐसा करते हैं उन्हें वह सब नहीं मिल पाता है जो वे जीवन में प्राप्त करना चाहते हैं। कुछ लोग इस तथ्य को समझते हैं कि शिकायत करना किसी भी चीज का हल नहीं है।

8. ज्यादा मत सोचो कम सोचो-खुश रहो (Don’t think too much think less-be happy)

कई बार हम किसी छोटी चीज के बारे में बहुत ज्यादा सोचते हैं। जिसके कारण हम लगातार चिंतित रहते हैं। इसलिए ज्यादा न सोचें और खुश रहें।

इन्हे भी पढ़े : Best 54+ Chanakya Quotes In Hindi

नोट: Happy tips for life आपको कैसा लगा, मुझे कमेंट करके जरूर बताएं और हमारे द्वारा लिखे गए लेख में कोई कमी देखी है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं, हम इसे सुधारेंगे और अपडेट करेंगे। अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया तो इसे फेसबुक, व्हाट्सएप और आपने दोस्तों के बीच शेयर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *